Thursday, February 24, 2011

ऐसे जीवन में क्या है..ये तो बस आना जाना है...

ऐसे जीवन में क्या है..ये तो बस आना जाना है... 
कभी सोचता हूँ
ये जिंदगी क्या है,
ये कैसा यहाँ
आना जाना है,
जो चाहो 
हर वक़्त मिलता नहीं,
हर पल ही
खुद को समझाना है,
कोई खुश है
क्यूंकि वो खुशियाँ ढूंढता है,
हर पल लड़ना है,
हर मोड़ अंजाना है,
कोई रस्ते में पड़ा है,
किसी का जैसे जमाना है,
पैसों में तोल रही दुनिया सबको,
दौलत नहीं 
तो परायों का ये आशियाना है ,
इंसानियत कहाँ है,
ये कैसा जहाँ है,
ईश्वर ने किया क्या है,
लगता है जैसे बस 
जिन्दा रहने की लड़ाई है,
जैसा डार्विन ने कहा था..
जो हर पल लड़ता है
और जीतता है
उसका ये जहाँ है,
वो आँखों में खुशी,
दिल में प्यार,
मन में सम्मान,
आत्मा में शांति,
सोच में पवित्रता,
का जमाना कहाँ है,
अगर ये नहीं तो फिर
ऐसे जीवान में क्या है..
ये तो सिर्फ आना जाना है... 
 अपनी पीढ़ी को
इस दुनिया में लाना है
या इसे बेहतर बनाना है..
(Think ..)

5 comments:

  1. सचमुच हर पंक्ति विचारणीय है..... सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. धार्मिक मुद्दों पर परिचर्चा करने से आप घबराते क्यों है, आप अच्छी तरह जानते हैं बिना बात किये विवाद ख़त्म नहीं होते. धार्मिक चर्चाओ का पहला मंच ,
    यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
    आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये...
    अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
    इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
    हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
    समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
    हल्ला बोल

    ReplyDelete